Skip to main content

तो कौन सा गाँव बताया आपने?

"तो कौन सा गाँव बताया आपने?"
पूरी कोशिश करने के बाद भी जब महाशय मेरी जात का पता नहीं कर पाए, तो अंतिम प्रयासों में उन्होंने गाँव, देहात से अंदाजा लगाने चाहा.

सुधाजी के रेलप्रसंग को पढने पर मुझे ये पुरानी घटना याद आई, उनके ही सुझाव पर आलसी होने के बावजूद मैंने इसे शब्दों में गुथने की कोशिश की.

वाराणसी रेलवे स्टेशन 
ये बात कोई आठ-एक साल पुरानी होगी, मैं तब B.Sc. कर रहा था, और उस बनारस से पटना की रेल यात्रा पर था. बनारस से वस्तुतः कोई सीधी और अच्छे समय की ट्रेन नहीं है पटना के लिए, तो ज्यादातर जनता भारत के सबसे बड़े रेलवे जंक्सन, मुगलसराय, से ट्रेन पकड़ना पसंद करते हैं. जगह की किल्लत और संभवतः engineering की कोई महान रचना करने के लिए, कुछ भारतीय रेलवे स्टेशन अजीबोगरीब रूप में गधे हुए हैं, वास्तु भी एक कारण हो सकता है. मुगलसराय, अल्लाहाबाद और खरगपुर कुछ ऐसे ही स्टेशन हैं जहाँ अगर लोकल जनता ने मदद नही की तो आप ट्रेन पकड़ चुके!

तो कहानी पर वापस आते हुए, मैं मुगलसराय से पटना जा रहा था. ब्रम्हपुत्र मेल की ठसाठस हालत देख मैंने उसमे ना चढ़ना ही ठीक समझा. अगली ट्रेन कोई फास्ट-पैसेंजर टाइप थी. प्लेटफार्मों की भूलभुलैया से जूझता हुआ मैं सही जगह पहुंचा. जापान जाने की चाह में चीन न पहुच जाऊं, इसके लिए मैंने पास में खड़े पुलिस वाले अंकल जी से पूछना ठीक समझा.
           "ये पटना ही जा रही है ना?"
ऊपर से नीचे तक मुझे देख, कुछ समझ कर उनका उत्तर आया "अच्छी ट्रेन है, बैठ जाओ, ज्यादा भीड़ भी ना होगी"



थोडा पूछने पे ज्यादा मिलना हमेशा बूरा नही होता. ट्रेन वैसी ही निकली - समय-बंध और खाली! बुरा ये हुआ, की वो अंकल जी भी साथ में ही आ धमके और पुरे रास्ते एक ही बिंदु पर अटके रहा - मेरी जात कौन सी है?

"पढ़ते हो? नाम क्या है?"
          "जी, पुनीत नाम है"
"बस पुनीत, आगे कुछ नहीं है?"
          "नहीं, आजकल कौन लगाना चाहता आगे कुछ?"
"हाँ, सहिये कहे, फायदे ही का है, बल्कि कुछ के लिए तो फायदे ही है."

इतनी खाली ट्रेन में मेरा ये संभवतः पहला ही सफ़र था. मुझे अपनी क्षमता में तो याद नहीं, वैसी कोई और यात्रा. पूरी द्वितीय श्रेणी (2nd class) पेस्सेंजर बोगी में कोई १०-१ लोग ही होंगे, और मैं इन महानुभाव के साथ था.

"तो पटना पढ़ाई के लिए जा रहे, या रिश्ते में?"
         "दीदी रहती है."
"अच्छा. पटना कहाँ?"
         "सिटी, वहीं के हैं आप?", कई बार सवालों से बचने का सबसे सुगम उपाय होता है एक और सवाल दाग देना.
"नहीं नहीं, हम तो आरा के है. वहां ****** साहब लोगों का एक बड़ा गाँव है, वहीं के हैं. पोस्टिंग में इ मुगलसराय-चंदोली आना-जाना लगा रहता है"
"वैसे अजीब जगह है ई चंदोली, नक्सली भी हैं और कोयला चुराने वाले भी" मेरा द्दंव शायद उल्टा पड़ चूका था, उनके पास काफी कहानियां थीं पकाने के लिए.

कुछ समय का विश्राम, खैनी-अभिनन्दन, और वापस अपने मुद्दे पर, "पिता जी भी नहीं लगाते, या बस बच्चों के नाम से हटा दिया?"
        "हाँ? मतलब? मतलब क्या हटा दिया?"
"अरे, टाईटील, अरे surname कहते हैं न अंग्रेजी में"
         "अच्छा, हाँ हाँ वो भी नहीं पसंद करते." मुझे अब तक इस वार्ता में मज़ा आना शुरू हो चूका था.
"तो कौन सा गाँव बताया आपने?" पूरी कोशिश करने के बाद भी जब महाशय मेरी जात का पता नहीं कर पाए, तो अंतिम प्रयासों में उन्होंने गाँव, देहात से अंदाजा लगाने चाहा. मेरे स्कूल के एक अध्यापक की भी ये आदत हुआ करती थी, कौन गाँव बताया रे-पुछ के छात्र का चरित्र-चित्रण उनका शौक था. मुझे उनके चेहरे पर खिसियाहट दीखने लगने थी. किसी को चिढाने का अपना ही मज़ा है, वो भी तब जब सामने वाला चिढ रहा हो.

मेरा गाँव 
            "बलिया, छाता गाँव से हैं. आप गए हैं वहां? सहतवार के और दखिन में पड़ता है. कटहल नाले के उधर", मुझे अपने गाँव के बारे में इतना ही पता है, बहुत जानता हूँ ये बताने के लिए काफी था.
"अच्छा, यार वहाँ तो हमारे बिरादरी के बहुतों का ब्याह हुआ है. **** ही हो तुमलोग. हमको लगा चेहरा देख के, आदमी की पहचान अच्छी है हमारी. अच्छेबर बाबू को तो जनबे करते होगे" बांछे खिल चुकी थी अंकल जी की.
             "नहीं, उनके घर के नहीं हैं. वैद्य जी के यहाँ के हैं" मैंने अंतिम गुगली डाली.

"कौन वैद्य जी! नाम क्या बताया, मतलब पूरा नाम क्या बताया? अरे यार, आर्य समाजी हो क्या, बुझउवल कर रहे?"
              "##### जात का हूँ, आपने पूछा ही नहीं खुल के. और जात में हमें ज्यादा कुछ दीखता नही तो हमने बताया नहीं"

चेहरा अभी भी भी खिला ही हुआ था. ख़ुशी किस बात की थी वो बताना आसान है, आखिर पूरा सफर अपने जैसी जात वाले के साथ ही की गयी थी. मैं भी थोडा तो खुश था, रास्ते भर मनोरंजन का कार्यक्रम चलता रहा, पर एक बड़ा प्रश्न तो अभी भी वहीं था. आखिर किस हद्द तक जरुरी है ये जात का हवाला रखना? रस्ते में चलने वाले की भी जात पता करने की ये अजीबोगरीब चाहत कहीं न कहीं तो अन्दर तो छेड़ ही जाती है. संभवतः कुछ वर्षों में हमें बदलाव दिखना शुरू हो, संभवतः....

आपने भी तो ट्रेन में ऐसी किसी घटना से दो-चार किया ही होगा, अपना वृत्तांत भी सुनाये, कुछ कथन/comments  हमेशा ही सराहनीय और प्रेरणा-स्रोत होते हैं...



(ये पोस्ट सुधा जी के सुझाव पर Indiblogger एवम Expedia द्वारा प्रायोजित प्रतियोगिता के लिया लिखा गया है. हिंदी को माध्यम, वार्ता के स्वाद को कायम रखने के लिए किया गया.)



Top Blogs Related Posts with Thumbnails

Comments

  1. loved reading it....specially in Hindi :)

    ReplyDelete
  2. How do you write hindi blog,, have you used any dynamic font..

    ReplyDelete
  3. No, I didnt use any dynamic font, I just used the Google/Blogger's inbuilt transliteration system....
    Thanks for the visit and the interest too :)

    ReplyDelete
  4. Mazedar vakya hua aapke saath! Safar me jin logon se hum milte hain, mere khyal me yeh prashn sabse jyada common hota hai -- kahan ke ho?

    Pata nahi logon ko yeh jaane mein itni dilchaspi kyun rehti hain?!

    ReplyDelete
  5. Bada mazaa aaya aapka yeh post padh kar, Punit. Log to kaafi hadh tak jaat pata lagaane ke liye kucch bhi kar sakte hain. Pataa nahin yeh aadat kab chhutegi !

    ReplyDelete
  6. kaafi manoranjak lekh tha...lutf uthaaya maine

    ReplyDelete
  7. :) शुक्रिया!

    ReplyDelete
  8. धन्यवाद सुधा जी, आपके ही पोस्ट से मुझे ये पुराना प्रसंग याद आया... :)

    ReplyDelete
  9. enjoyed the read. great penning.

    ReplyDelete
  10. thank you Pramod ji! You must have some similar experience with people super-interested in your family, village and caste...isn't it?

    ReplyDelete
  11. Lovely…


    mumbaiflowerplaza.com


     

    ReplyDelete
  12. :) धन्यवाद!
    पर लोग जैसे भी हों, 2nd क्लास में यात्रा का अपना अलग ही आनंद होता है...

    ReplyDelete
  13. Rosesandgiftss7 June 2013 at 21:02

    Lovely…


    rosesandgifts.com

    ReplyDelete

Post a Comment

Thanks for the visit! It would be great if you may spare a few seconds more to comment on the post...

Popular posts from this blog

Trekking Ghansoli Gawli Dev (Parsik) Hill

It’s been there for geological ages, we have been looking at it for last about 4years and I have been planning to trek it since a long time. Finally, few weeks back, we trekked the Ghansoli Hill.

Ghansoli Hill is located at the eastern boundary of Ghansoli town, behind our office complex at RCP. The hill or better hillock is a part of small range that separates Kalyan and Navi Mumbai towns. A search on Google Map returns with a name Parsik Hill for it, though there is one more rather famous Parsik Hill in Navi Mumbai. We also found a NewsArticle, that talks about NMMC plans to develop Nature Awareness Centre at this hills and calls it Gawli Dev Hill. Here, we would be calling it Ghansoli Hill. I asked my colleague about it and he readily agreed. The very next Sunday we did it with another friend. We weren't aware of the route. All we knew is that a Central Road runs along the western edge of the hill and can be reached through the Vashi-Mhape road. We later found that there’s a Bus…

AshtaVinayaka Yatra with Bisons

(This post has already appeared on Bisons Ride Hard website, to check out click here) Ever since I read Vinni’s post on last year’s Ride of Faith, I have been waiting for this year’s ride. The day I came to know about the Bison’s schedule, I started preparing, until I realized I don’t have leaves. Few days left to the ride, multi-reminders received and I was like, will I be able to make it? Something happened, meetings deferred, jobs got completed and I was able to ask my boss for leaves; and, who can deny you leaves that too for a Ride of Faith, Ride to AshtaVinayaka! I felt blessed that day, and now after the hard ride we had, I know I’m blessed! We are a nation of faith, which plays an immensely large role in our lives, being homely, officially or on the tar. Though Bisons have started riding hard the day they first met at BKC on a fine Sunday evening of July 23, 2011 at BKC; official announcement was made on the auspicious day of Ganesh Chautrthi, Shukla Paksha, Bhadra maas, i.e. Se…

Riders of the Nation of a Billion - Dimensions and Horizons

Incidentally I wrote a post of my tranformation from just around the corner corporate junkie into a Rider (for sure, still gradually) few days ago. Now, here are the Indibloggers with a Contest for the Bikers of the Nation with Castrol guys.


When you look at the scenario of Biking in a general sense, you would be attracted by the road-rowdies and rookies who ride to spread nuisance and are mostly acknowledged for their deeds by the newspaper. Hooligans may be the right word.But, once you get involved with the passion, you would be able to see how the passion of Biking, or rather Riding, is evolving in the country where 2-wheelers over-power 4-wheelers by scores of galactic height, but have never earned respect on highways just coz they are the smallest-speeding machine there! I would try to let you through the Indian Riders tale, so that you  be able to appreciate how the riders of the Country are working, though in a segregative way, to evolve the Bikers’ Code for the Nation of…